फैशन प्रिंट क्या हैं और ये कितने प्रकार के होते है

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

फैशन प्रिंट के बारे में जानने  से पहले हम फैशन के बारे में चर्चा करते हैं। फैशन क्या है ?

फैशन क्या है 

Table of Contents

फैशन विशेष ररोप से कपड़ों कि ढंग बदलता है जैसे कि एक कपड़ा कैसा दिखे उसका निर्णय फैशन से होती है। फैशन का इस्तेमाल ज्यादातर कपड़ों में किया जाता है, और अन्य खसेथरोम में भी कर सकते है जैसे कि जूते, बैग्स आदि।

फैशन शैली में एक विशिष्ट और अक्सर  प्रवृत्ति का दर्शन करता है, जो एक व्यक्ति के कपड़े के साथ-साथ व्यवहार में प्रचलित शैलियों के लिए होता है। फैशन वस्त्र डिजाइनरों की नवीन हुनर का भी दर्शन कराता है।आज कल अधिक लोगों की इस्तमाल से ये फैशन शब्द बहुत आम होगया है।

फैशन प्रिंट क्या हैं

फैशन प्रिंट्स रंग और परिधान शैली को संचालित प्रवृत्ति के रूप में दिखते हैं।ये प्रिंट नए लुक के साथ-साथ कपड़ों को देखने में खास बना  देते हैं।

अब हमारे फैशन शब्दावली में फैशन प्रिंट और पैटर्न के विभिन्न प्रकारों और विविधताओं के बारे में पढ़ें।

फैशन प्रिंट के प्रकार

फैशन प्रिंट्स को विभिन्न प्रकारों में वर्गीकृत किया जाता है। उनके नाम उस लुक(जैसे दिखता है) पर आधारित होते है। वो हैं

अंकारा

यह चमकीले रंग और प्रकृति से प्रेरित कार्बनिक रूपांकनों का संयोजन होते  है, अनकारा प्रिंट अफ्रीकी मूल का है।

ब्लॉक प्रिंट

एक प्रकार का प्रिंट जो कपड़े या सतह को रंगने के लिए लकड़ी या धातु के ब्लॉक या किसी भी ब्लॉक आकृति का उपयोग करता है, जिसे ब्लॉक प्रिंट कहा जाता है।

ब्लॉक प्रिंटिंग में  एक पैटर्न को बनाने के लिए ब्लॉक का उपयोग  किया जाता है। देसी बनाने के लिए लेज़र कट या स्कल्प्ड एज का उपयोग करते है।

वनस्पति / पुष्प प्रिंट(फ्लोरल प्रिंट)

फूलों के पत्तों, पेड़ों और पक्षियों के रूपांकनों के  द्वारा गठित एक उद्यान थीम्ड प्रिंट  को पुष्प(फ्लोरल) प्रिंट के रूप में जाना जाता है।

छलावरण(कैमाउफ्लेज)

यह प्रिंट है एक सैन्य प्रेरित प्रिंट है , जिसमें आम तौर पर चार रंग (डार्क ब्राउन,ग्रे, बेेज एंड ऑलिव ग्रीन) कई तरह के आकर में होते हैं।

चेक

एक चेक प्रिंट में दो वर्गाकार रंगों को एक-दूसरे के बगल में बराबर चौकोर (परफेक्ट स्क्वेयर)के आकार  में रख कर प्रिंट किया जाता  हैं।

शेवरॉन (चेवरान)

एक शेवरॉन प्रिंट v और उल्टे v आकार के पैटर्न की एक श्रृंखला(सीरीज) होते है जो क्षैतिज ज़िग ज़ैग के रूप  बन जाती है।

छाता(गिंघम)

ये चेक प्रिंट के समान होते है।इस प्रिंट में तीन रंग होते है लेकिन हमे चेक प्रिंट में सिर्फ दो रंग देखने को मिलता है।

हेर्रिंगबोन

हेरिंगबोन प्रिंट एक वी के आकार का क्षैतिज ज़िग ज़ैग बुना हुआ पैटर्न है जो मछली की हड्डियों जैसा दिखता है।

होलोग्राफिक

इसे होलो भी कहा जाता है और ये  90’s।  होलोग्राफिक प्रिंट एक लोकप्रिय और एक उच्च चमक इंद्रधनुषी प्रिंट है  जो लाइट  के  प्रतिबिंब के द्वारा बनते है।होलोग्राफिक प्रिंट  आज कल फैल विंटर 2018 के प्रिंट्स में देख सकते हैं।

हाउडस्ट्रथ

डॉग स्टूथ के रूप में भी जाना जाता है। हाउंडस्टूथ प्रिंट आमतौर पर एक तेज काला और सफेद पैटर्न है जो कुत्ते के दांत जैसा दिखता है।

मोज़ेक

मोज़ेक प्रिंट एक ऐसा पैटर्न है जो विभिन्न आकृतियों और आकारों के टुकड़ों को लगभग एक पहेली की तरह रखकर बनाया जाता है।

पैज़ले

पैस्ले प्रिंट एक रंगीन और जटिल पैटर्न है जिसमें वक्र और आंसू ड्रॉप आकार में कई नापोम में रहते  हैं।

पैरामीट्रिक

मॉडिफाइड पैरामीटर का उपयोग करके कंप्यूटर एल्गोरिदम द्वारा बनाए गए पैटर्न को पैरामीट्रिक प्रिंट कहा जाता है।

फोटो असली(फोटो रियल)

कपड़ों पर प्रिंट के रूप में बेहद यथार्थ दिखने वाली छवियां  वास्तविक प्रिंट के रूप में परिलक्षित होती हैं।

धारियों

आमतौर पर पुरुषों के औपचारिक(फॉर्मल) सूट पर पाया जाता है, पिनस्ट्रैप प्रिंट में पतली ऊर्ध्वाधर(वर्टिकल)रेखाएं समान रूप से अलग-अलग होती हैं।

प्लेड

प्लेड प्रिंट एक ग्रिड है, जो विभिन्न आकारों और रंगों के ओवरले क्षैतिज(हॉरिजोंटल) और ऊर्ध्वाधर(वर्टिकल) बैंडों की एक श्रृंखला द्वारा गठित पैटर्न की तरह है।

पोल्का डॉट्स

पोल्का डॉट प्रिंट एक अलग रंग के गोला आकर है को  अलग अलग रंगों में छपी जाते है।

साइकेडेलिक

यह एक रंगीन और स्वादिष्ठ 60 वी सदी का प्रेरित प्रिंट है, जिसे देखने के लिए कुछ ऐसा बनाया गया कि , जब कोई व्यक्ति मतिभ्रम करता है या दवाओं के असर में है। उसका मतलब ये दिखने में साफ नहीं दिखते कई रंग मिल्के रहते है।

रंगरेज की रंगाई(टाय एंड डाय)

एक तकनीक जिसमें  छोटे समुद्री मील के पैटर्न में एक कपड़ा बुना जाता है और फिर रंग और खाली स्थानों के पैटर्न को प्रकट करने के लिए खोला जाता है।पश्चिमी भारत में लोकप्रिय और 70 वी साल के टाई और डाई की हिप्पी संस्कृति में भी कभी-कभी कई उज्ज्वल रंगों का उपयोग किया गया  है।

फैशन प्रिंट रंग और परिधान शैली के रूप में संचालित प्रवृत्ति हैं।फैशन प्रिंटर्स एक फैशन डिजाइनर टूल किट में तेजी से उपयोग किया जाने वाला उपकरण बन रहे हैं।इसलिए, हालांकि मौसम और वर्ष के आधार पर विभिन्न प्रकार के फैशन प्रिंटों का सामान्य रूप से चलना सामान्य है, कुछ अन्य की तुलना में अधिक लोकप्रिय हो सकते हैं।

ज्यामितीय प्रिंट(जॉमेट् प्रिंट)

ज्यामितीय प्रिंट रंग अवरुद्ध किसी भी आकर में होते हैं।ये इस्लामिक कला से प्रेरित  पैटर्न  होते हैं जियो प्रिंट अमूर्त या ग्राफिक के तहत भी मिल सकते हैं।

ग्राफिक/अब्स्ट्राट

अमूर्त का उपयोग पहचानने योग्य रूपों और रूपांकनों का वर्णन करने के लिए किया जाता है, क्योंकि उन्हें किसी अन्य तरीके से वर्णित नहीं किया जा सकता है ग्राफिक एक प्रिंट की बोल्डनेस का विवरणात्मक प्रिंट  है।

पशुओं की खाल(एनिमल स्किन)

विभिन्न जानवरों की त्वचा के मुद्रित होते जरूरी नहीं कि जानवर का पूरा शरीर  हो बल्कि जानवर कि त्वचा का रूप  दिखता है जैसे कि लीपर्ड, सांप, मगरमच्छ, ज़ीरो आदि।

नवीनता प्रिंट (नवल्टी)

पहचानने योग्य छवि जैसे कि हर दिन की वस्तुओं और जानवरों को आम तौर पर समान सामग्री से बाहर ले जाया जाता है या संदर्भ छवि के बिना संयोजन में रखा जाता है।ये निज जीवन शैली को दिखाते हुए होते है और उनमें हसी आने वाले आकर का भी उपयोग करके बनते है।

ये फैशन प्रिंट फैशन उद्योग के महत्वपूर्ण हिस्सा है। फैशन इंडस्ट्री में   ये एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

ये भी पढ़े 

फैशन लोगों के जीवन को कैसे प्रभावित करता है

फैशन हमारे दैनिक जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है इसके बिना जीवन जीना लगभग असंभव होता जा रहा है ।फैशन की कमी अब बहुत सारे लोगों के लिए एक समस्या बनती जारही है हालांकि कुछ व्यक्तियों को वास्तव में परवाह नहीं है कि वे कैसे दिखते  हैं।

फैशन को प्रभावित करने वाले कारक

उपभोक्ता सूक्ष्म पर्यावरणीय कारकों में संस्कृतियों, मोड्रेन, जीवन शैली और जनसंख्या परिवर्तन शामिल  होते हैं।ये कपड़े उद्योग को विभिन्न तरीकों से प्रभावित करते हैं।

फैशन अर्थव्यवस्था(इकोनॉमी) के लिए अच्छा है

न केवल फैशन उपभोक्ताओं को हमारी अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए है और अधिक खरीदने के लिए भी  प्रोत्साहित करता है, बल्कि यह विकासशील देशों में कई नौकरियों को भी देता  करता है ।

अर्थव्यवस्था फैशन पर कैसे प्रभाव डालती है

आर्थिक कारकों का कपड़ों पर सकारात्मक(पॉजिटिव) और नकारात्मक(नेगेटिव) दोनों तरह के  प्रभाव पड़ सकता है।आर्थिक उछाल अवधि के दौरान लोगों के पास अधिक डिस्पोजेबल आय है इसलिए कपड़ों, निर्माताओं, थोक विक्रेताओं(होलसेलर्स) और खुदरा विक्रेताओं(रिटेलर्स) के लिए भी  वृद्धि लाती है।

फैशन गैर-आर्थिक मामलों जैसे सामाजिक रीति-रिवाजों को भी प्रभावित करता है उपभोक्ता वस्तुओं के उद्योगों की आर्थिक संरचना फैशन की भूमिका को दर्शाती है क्योंकि फैशन में समकालीन जीवन के लगभग सभी पहलू शामिल होते हैं।

फैशन प्रिंट की कीमत कितनी होती  है 

मूल्य सबसे महत्वपूर्ण कारक है जो किसी भी उत्पाद को प्रभावित करता है मांग के आधार पर लागत निर्धारित की जाती है।मांग एक मात्रा नहीं है यह कीमत और ग्राहक के बीच का संबंध है और उपभोक्ता को विभिन्न स्थानों पर खरीदने के लिए भी  प्रभावित करता  हैं

यदि कमोडिटी की मांग बहुत अच्छी है, तो लोग आम तौर पर विभिन्न जगहों पर इससे बड़ी मात्रा में खरीदेंगे, अगर मांग सामन है तो उसको ज्यादा नहीं खरीद ते है। हमारी भारत देश की एक लोकप्रय प्रिंट है कलांकरी।

आशा है Friends की आपको हमारे द्वारा “सिंथेटिक फाइबर” के बारे मे लिखा गया Blog पसंद आया होगा। यदि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी हो तो आप इसे अपने Social Media Sites पर Share ज़रूर करें l

अगर आप भविष्य में ऐसी जानकारी लेना चाहते हैं तो आप हमारे ब्लॉक को सब्सक्राइब करें और साथ के साथ आप हमारे  इंस्टाग्राम पेज और  फेसबुक पेज को लाइक करें जिससे आपको हमारे आने वाली हर पोस्ट की अपडेट समय से मिलती रहे .

Leave a Comment