पैटर्न मेकिंग क्या होता है और पैटर्न बनाने के तरीके (Pattern Making and Methods)

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

पैटर्न मेकिंग (Pattern Making)

फैशन डिजाइन और सिलाई में, पैटर्न वो टेम्प्लेट होता है जिससे एक कपड़े के पैटर्न को कपड़े पर काटा जाता है। पैटर्न मेकिंग डिजाइन और प्रोडक्शन दोनो के बीच का ब्रिज है। एक स्केच को एक पैटर्न के माध्यम से परिधान में बदल दिया जाता है।

पैटर्न आमतौर पर कागज से बने होते हैं, और कभी-कभी पेपरबोर्ड या कार्डबोर्ड जैसी मजबूत सामग्रियों पे भी बनाए जाते है, ताकि उन्हें बार-बार उपयोग किया जा सके। पैटर्न बनाने या काटने की प्रक्रिया को हम पैटर्नमेकिंग या पैटर्न कटिंग भी कहते है।

पैटर्न बनाने के तरीके (Methods of Pattern Making)

पैटर्न बनाने के लिए तीन तरीके शामिल हैं-

  • Drafting
  • Draping
  • Flat paper pattern making

Drafting

ड्राफ्टिंग की शुरुआत उस व्यक्ति या वस्तु के सटीक माप लेने के साथ कि जाती हैं, जैसे- चेस्ट, वेस्ट, हिप आदि। ड्राफ्टिंग ज्यादा तर भूरे रंग के पेपर (ब्राउन पेपर) पर ही किया जाता है। Ease अल्लोवंस को कागज पर चिह्नित किया जाता है और कंस्ट्रक्शन लाइन को बना कर पैटर्न को तैयार किया जाता है। 

ड्राफ्टिंग का उपयोग डिज़ाइन पैटर्न के नीव बनाने के लिए किया जाता है। अगर कटाई सही तरीके से की जाए तो कपड़े की वेस्टेज से भी बचा जा सकता है। आजकल ज्यादा से ज्यादा डिजाइनर कम्प्यूटरीकृत पैटर्न मेकिंग (Computerized pattern making) और ड्राफ्टिंग सॉफ्टवेयर का विकल्प चुन रहे हैं, जो इस प्रक्रिया को और भी बेहतर और सरल बनाता है।

Draping

ड्रेपिंग फैशन डिजाइन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, फैशन डिजाइन के लिए ड्रेपिंग एक कपड़े के डिजाइन की संरचना को विकसित करने के लिए कपड़े के रूप में स्थिति और पिनिंग की प्रक्रिया है। 

आसान शब्दों में कहे तो ड्रेपिंग वो प्रक्रिया है जिससे कपड़े बनने या सिलने से पहले ही हम उसका लुक देख सकते है या डिज़ाइनर कपड़े ड्रेप कर नई लुक को क्रिएट करते है। ड्रेपिंग का फायदा ये है कि डिज़ाइनर गारमेंट बनने (कटने और सिलने) से पहले गारमेंट का फूल बॉडी लुक देख सकता है। 

कपड़े के स्केच का उपयोग एक आधार के रूप में किया जा सकता है, या फैशन डिजाइनर नई डिज़ाइन बनाने के लिए ड्रापिंग का इस्तेमाल करता है। ड्रेपिंग के बाद, फैब्रिक को ड्रेस के रूप से हटा दिया जाता है और परिधान के सिलाई के लिए उपयोग किया जाता है।

Flat paper pattern making

फ्लैट पैटर्न मेकिंग वो प्रक्रिया है जिसमे सम्पूर्ण (entire) पैटर्न को माप से एक सपाट सतह पर बनाया जाता है। एक पैटर्न निर्माता पैटर्न को चिह्नित करने के लिए विभिन्न उपकरणों जैसे कि एक नोचर, ड्रिल और awl का भी उपयोग करता है।

आमतौर पर, फ्लैट पैटर्निंग एक स्लीपर या ब्लॉक पैटर्न के निर्माण के साथ शुरू होता है, जो पहनने वाले की माप के लिए एक सरल, फिट कपड़ा है। 

फ्लैट पैटर्न मेकिंग का व्यापक रूप से उपयोग रेडी-टू-वियर मार्केट के लिए किया जाता है क्योंकि ये प्रक्रिया तेज़ और सटीक है।

आज के समय में पैटर्न मेकिंग (Pattern making in this Time)

आज के समय में पैटर्न बनाना एक सरल और आसान काम बन गया है, पैटर्न मेकर्स की जरूरतों को पूरा करने के लिए बाजार में अब तरह-तरह के सॉफ्टवेयर्स उपलब्ध हैं। जिन्हें इस्तेमाल कर के किसी भी मेज़रमेंट का पैटर्न या ड्राफ्ट बनाया जा सकता है।

पैटर्न बनाने के उपकरण (List of pattern making tools)

 

पैटर्न मेकिंग टूल सबसे जरूरी हिस्सा है पैटर्न मेकिंग प्रॉसेस में। पैटर्न को पूरे तरीके से तैयार करने के लिए, विभिन्न प्रकार के पैटर्न टूल होते है मेजरिंग टूल, ड्राफ्टिंग टूल, मार्किंग टूल, कटिंग टूल, sewing टूल आदि जिनमे से कुछ जरूरी उपकरण हैं-

Table
Curve rules
Pencils and pens
Rulers
Metal weight
Measuring tape
Magic mend scotch tape
Hanger hooks or ringers
Push pins
Brown Paper
Notcher
Tracing wheels
Straight pins
Straight pin holder
Scissors
Tailor’s chalk
Awl or hole maker
Miscellaneous Tools

ये भी पढ़े:

पैटर्न बनाने के उपकरण और उनका कार्य: Pattern Making Tools and Their Function

आशा है Friends की आपको हमारे द्वारा “पैटर्न मेकिंग” के बारे मे लिखा गया Blog पसंद आया होगा। यदि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी हो तो आप इसे अपने Social Media Sites पर Share ज़रूर करें l

अगर आप भविष्य में ऐसी जानकारी लेना चाहते हैं तो आप हमारे ब्लॉक को सब्सक्राइब करें और साथ के साथ आप हमारे  इंस्टाग्राम पेज और  फेसबुक पेज को लाइक करें जिससे आपको हमारे आने वाली हर पोस्ट की अपडेट समय से मिलती रहे .

ये भी पढ़े 

Leave a Comment