नायलॉन क्या है इतिहास, प्रकार, उपयोग: What is Nylon Fiber

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नायलॉन क्या है

Nylon सबसे अधिक इस्तेमाल किए जाने वाला सिंथेटिक फाइबर है। अन्य प्राकृतिक या सेमी सिंथेटिक फाइबर की तरह नहीं, बल्कि नायलॉन फाइबर पूरी तरह से सिंथेटिक हैं मतलब नायलॉन में प्राकृतिक सामग्री का कोई मिलावट नहीं होती। नायलॉन polyamides नामक मोनोमर्स से बना पॉलीमर है।

नायलॉन कपड़े का आविष्कार क्यों किया गया है

विश्व युद्ध 2 के समय कपड़ा उद्योग में  80% से अधिक काॅटन का उपयोग किया जाता था। अन्य सभी वस्त्र ऊन से बने होते थे, रेशम को बदलने के लिए एक नए फाइबर की खोज शुरू की गई। उस समय प्रोफेसर वालेस और उनकी टीम एक नए फाइबर का आविष्कार करने में सफल रहे। यह फाइबर बहुत मजबूत, लोचदार(elastic) और टिकाऊ था। उन्होंने उस फाइबर को नूरॉन नाम दिया लेकिन बाद में इसे बदलकर नायलॉन कर दिया गया।

नायलॉन कैसे बनाया जाता है

Di amine एसिड नामक एक मोनोमर को कच्चे तेल (crude oil) से निकाला जाता है। उस एसिड को adipic acid के साथ प्रतिक्रिया (reaction) करने के लिए मिलाया जाता है। नायलॉन नमक (nylon salt) इस प्रतिक्रिया का परिणाम होता है। यह प्रकृति में क्रिस्टलीय (crystalline) होता है इसे पिघलाने के लिए गरम किया जाता है।

पिघला हुआ पदार्थ को एक स्पिनर की सहायता से बाहर निकाला जाता है।फिर इसे एक प्रकार के स्पूल पर लोड किया जाता है जिसे बोबिन कहते है। प्राप्त हुई  तंतुओं को अपनी ताकत और लोच बढ़ाने के लिए स्ट्रेच किया जाता है।

फ़ाइबर को एक और बार स्पूल पर घाव किया जाता है जिसे ड्राइंग कहते है, अंत में  नायलॉन फाइबर को रंगीन करते है।

नायलॉन फाइबर के प्रकार

नायलॉन 6,6

यह पहला शुद्ध सिंथेटिक फाइबर है, इसमें hexamethylenediamine नामक मोनोमर अधिक होता है।

नायलॉन 6

यह नायलॉन कपड़े बनाने के लिए उपयोग किया जाता था। लेकिन नायलॉन 6,6 से कम लोकप्रिय है।

नायलॉन 46

यह केवल अंतर्राष्ट्रीय कॉर्पोरेशन डीएसएम द्वारा उत्पादित किया जाता है। यह आमतौर पर एयर कंडीशनर, ब्रेक जैसे इंजन घटकों में पाया जाता है।

नायलॉन 510

यह नायलॉन 6,6 का विकल्प है, अब इसे  वैज्ञानिक अनुप्रयोग में उपयोग किया जा रहा  है।

नायलॉन 1,6

इसे फॉर्मलाडेहाइड और पानी को मिलाकर बनाया जाता है, इसका उपयोग कपड़ों में नहीं किया जाता।

नायलॉन फाइबर के गुण

  • नायलॉन फाइबर वजन में हल्का होता है।
  • यह लोचदार और मजबूत है 
  • नायलॉन को आसानी से धोया जा सकता है।
  • यह चमकदार है।
  • नायलॉन कपड़े पानी को अवशोषित (absorb) नहीं कर सकते।
  • वे आसानी से आग पकड़ सकते हैं।इसलिए पटाखे जलाते समय, वेल्डिंग कार्य करते समय नायलॉन के कपड़े नहीं पहनने चाहिए।

नायलॉन कपड़े का उपयोग कैसे किया जाता है

नायलॉन का प्रमुख अनुप्रयोग वस्त्रों में करते है जैसे कि,योगा पैंट, महिलाओं के लिए कपड़ों में भी इस्तेमाल किया जाता है। इसको आमतौर पर स्पोर्ट्स वियर में भी इस्तेमाल किया जाता है।

इसकी जल विकर्षक (water repellent) प्रकृति के कारण अधिकांश कंपनियां अन्य कपड़ों के साथ नायलॉन का मिश्रण करके कपडे बनते हैं। कुछ स्पोर्ट्स वियर मैन्युफैक्चरिंग कंपनियां कपड़ों में  लोच (elasticity) बढ़ाने के लिए नायलॉन फैब्रिक को शामिल करती हैं।

नायलॉन को रस्सी बनाने केलिए भी उपयोग किया जाता हैं।

नायलॉन कपड़े का उत्पादन कहां किया जाता है

संयुक्त राज्य अमेरिका में नायलॉन फाइबर  का उत्पादन शुरू हुआ। लेकिन नायलॉन फाइबर के लाभ द्वारा इसका उत्पादन विश्वव्यापी हो गया। ब्राजील, चीन, भारत, पाकिस्तान जैसे देश नायलॉन फाइबर का उत्पादन करते हैं। चीन इन में से  पहले स्थान पर है ।

नायलॉन फाइबर की लागत (cost) कितनी है

नायलॉन फाइबर के प्राथमिक लाभ में से एक इसकी कम लागत ही है। शुरूआत में यह महंगा था लेकिन तेजी से इसकी कीमत कम हो गई।अन्य फाइबर के साथ मिश्रित होने पर यह विशेष रूप से सस्ता है।

एक सिंथेटिक फाइबर होने के नाते भी इसका उपयोग विस्तृत श्रृंखला में किया जाता है। नायलॉन अपनी बहुमुखी प्रतिभा के कारण लोकप्रिय है।

आशा है Friends की आपको हमारे द्वारा “नायलॉन फाइबर” के बारे मे लिखा गया Blog पसंद आया होगा। यदि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी हो तो आप इसे अपने Social Media Sites पर Share ज़रूर करें l

अगर आप भविष्य में ऐसी जानकारी लेना चाहते हैं तो आप हमारे ब्लॉक को सब्सक्राइब करें जिससे आपको हमारे आने वाली हर पोस्ट की अपडेट समय से मिलती रहे..

ये भी पढ़े

Leave a Comment