प्राकृतिक फाइबर क्या है उन्हें कैसे बनाया और उपयोग किया जाता है

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

यह नाम स्वयं बताता है कि ये फाइबर पौधों और जानवरों से प्राप्त किए जाते हैं।ये पौधों और जानवरों द्वारा उत्पादित लम्बी पदार्थ हैं जिन्हें धागे में पिरोया जा सकता है।

उदाहरण: कॉटन, हेंप,रेशम

प्राकृतिक फाइबर को थ्रेड में बदलने के लिए रसायनों के उपयोग की आवश्यकता नहीं होती है।

मनुष्यों की सभ्यता से पहले, वे कपड़े और अन्य आवश्यक बनाने के लिए प्राकृतिक फाइबर का उपयोग करते थे।पर्यावरणीय दृष्टिकोण से प्राकृतिक रेशे इको सिस्टम का हिस्सा होते हैं

इसलिए वे अक्षय, बायोडिग्रेडेबल, टिकाऊ होते हैं।वे मिट्टी के लिए भी अच्छे हैं, हवा के लिए अच्छे हैं और मनुष्यों के लिए गैर विषैले हैं।

प्राकृतिक फाइबर को कम ऊर्जा की आवश्यकता होती है और सिंथेटिक फाइबर की तुलना में कम प्रदूषण पैदा होता है। प्राकृतिक रेशों के साथ काम करने वाले कारखाने के श्रमिक किसी भी नकारात्मक स्वास्थ्य प्रभाव का अनुभव नहीं करते हैं।

जैविक प्राकृतिक फाइबर के साथ काम करना एक प्रतिकूल शारीरिक प्रतिक्रिया, स्वास्थ्य समस्या या जहर को पैदा नहीं करता है। प्राकृतिक फाइबर हमारे शरीर को सांस लेने और प्राकृतिक तापमान(टेम्परेचर) विनियमन प्रदान करने की अनुमति देते हैं।

प्राकृतिक रेशे पहनना पर्यावरण के लिए अधिक महत्वपूर्ण है।

प्राकृतिक फाइबर्स का वर्गीकरण

फाइबर बनाने की तरीके और सामग्री के अनुसार इनको मुख्य 2  प्रकारों  में वर्गीकरण किया गया है।वे

  • प्लांट फाइबर
  • पशु फाइबर

प्लांट फाइबर

प्लांट फाइबर वे फाइबर होते हैं जो प्लांट स्रोतों(रा मटेरियल) से बनाए जाते हैं। विभिन्न प्रकार के पौधे फाइबर(प्लांट फाइबर) होते हैं। वो हैं कि:

बीज फाइबर(सीड फाइबर)

विभिन्न पौधों के बीजों से एकत्रित किए गए रेशे है।इन्हे  बीज फाइबर के रूप में जाना जाता है।

पत्ती फाइबर(लीफ फाइबर)

पत्तों की कोशिकाओं से एकत्र होने वाले फाइबर्स को पत्ती फाइबर्स के रूप में जाना जाता है।उदाहरण के लिए केले का पत्ता।

बस्ट फाइबर(बस्ट फाइबर)

इन्हे  पौधे की तना(स्टेम)  के बाहरी परतों (आउटर सेल् लेयर्स) से एकत्र करते हैं।इन फाइबर्स का उपयोग टिकाऊ यार्न, कपड़ों के लिए किया जाता है।उदाहरण के लिए सन, जूट, केनाफ।

फल फाइबर(फ्रूट फाइबर)

ये पौधों कि फलों से एकत्र किए गए फाइबर होते हैं उदाहरण के लिए नारियल के रेशे।

डंठल फाइबर(स्टॉक फाइबर)

पौधों के डंठल(स्टॉक) से लब्ध कि गई  रेशों को डंठल(स्टॉक)  रेशों के रूप से जाना जाता है।उदाहरण के लिए गेहूँ, चावल, गेहूँ के ढेर, पुआल।

पशु फाइबर(एनिमल फाइबर)

पशु फाइबर में आमतौर पर कोलेजन, केराटिन और फाइब्रियन जैसे प्रोटीन शामिल होते हैं उदाहरण के लिए रेशम, ऊन, कैटगट, मोहायर।

जानवरों के बाल(एनिमल हैर)

जानवरों या बालों वाले स्तनधारियों से लिए गए फाइबर या ऊन।उदाहरण के लिए भेड़ की ऊन, बकरी के बाल, घोड़े के बाल आदि।

रेशमी रेशे(सिल्क फाइबर)

सिल्क वर्म जब कॉकून बनाता है तो उन्हीं कोकून  से रेशों को बनाते है वे बहुत ही मुलायम होते है।

एवियन फाइबर (अवियन फाइबर)

ये पक्षियों के पंख  से प्राप्त की गई फाइबर्स  हैं।उदाहरण के लिए पंख फाइबर।

काइटिन(चितिन)

यह दुनिया के  दूसरा और  सबसे प्रचुर मात्रा में प्राकृतिक पॉलिमर है। यह कई सॉल्वैंट्स में नहीं मिलता  है।यह कम जहरीला भी है चिटिन में एंटी बैक्टीरियल गुण भी होते हैं।यह कई जीवित जीवों को सुरक्षा और जीने की सहायता प्रदान करता है।

प्रकृति में शुद्ध चिटिन मौजूद नहीं है। यह चिटिन कि डीसटीलात डेरिवेटिव चितिसिन के रूप में मौजूद रहते हैं।

काइटोसान(चिटोसं)

यह अर्ध क्रिस्टलीय है।चिटिन और चिटोसन के बीच का अंतर है चिटोसन अम्लीय जलीय घोल में घुलनशील है चिटिन की तुलना में चिटोसन को बनाने की विधि  अधिक आसान  होती है इसकी प्रक्रिया में आसानी के कारण इसका उपयोग बायोमेडिकल एप्लिकेशन में उपयोग किया जाता है।

नमी निर्भरता

पानी की उपस्थिति प्राकृतिक फाइबर के व्यवहार में बहुत ही  महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है अपने मूल उपयोग के बाहर के अनुप्रयोगों में प्राकृतिक फाइबर का उपयोग करते समय, जलयोजन के मूल फावदे को ध्यान में रखा जाना चाहिए।

ये भी पढ़े 

प्राकृतिक फाइबर्स का अनुप्रयोग


औद्योगिक(इंडस्ट्रियल) उपयोग:

औद्योगिक मूल्य जैसे कि पशु के रेशे जैसे ऊन, रेशम, ऊंन, बाल और अंगोरा साथ ही कॉटन, सन, और जूट जैसे चार पौधों के फाइबर का उत्पादन और  उन से कपड़ों  को बनाने केलिए  बहुत  मुक्यता दी जाती है।

प्राकृतिक फाइबर मिश्रित:

इन प्राकृतिक फाइबर्स  का उपयोग सिंथेटिक या कांच के रेशों जैसे मिश्रित पदार्थों में भी किया जाता है।

ये कंपोजिट बायो कम्पोजिट हैं।

प्राकृतिक फाइबर्स के फायदे

  • कम घनत्व(प्राइस)
  • बेहतर थर्मल इन्सुलेशन
  • त्वचा की जलन कम।
  • किसी भी मौसम में नरम और आरामदायक।
  • ये अच्छे पसीने को अवशोषित(अब्सोर्ब)करने वाले होते हैं।

प्राकृतिक फाइबर्स के नुकसान

  • महंगा
  • प्राकृतिक फाइबर द्वारा उत्पादित सामग्री आमतौर पर सिंथेटिक फाइबर की तुलना में महंगी होती है।
  • आक्रामक धुलाई के कारण प्राकृतिक रेशे सिकुड़ सकते हैं।

प्राकृतिक फाइबर के गुण

  • प्राकृतिक फाइबर जल्द से जल्द खेती वाले पौधों से संबंधित हैं
  • कम वज़न
  • उच्च लागत।
  • विशिष्ट शक्ति और कठोरता।

इन गुणों ने उन्हें कई उद्योगों(इंडस्ट्रीज) के लिए विशेष रूप से आकर्षक बना दिया है।

गुणवत्ता के संदर्भ में प्राकृतिक रेशे लंबे और टिकाऊ होते हैं जब अर्थव्यवस्था की बात आती है तो प्राकृतिक फाइबर उत्पादन छोटे पैमाने पर किसानों और उत्पादन घरों और निर्माताओं का समर्थन करने में मदद करता है ताकि उनके पास काम करने का सुखद वातावरण हो सके।

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि जैविक प्राकृतिक रेशों का उत्पादन बहुत  नहीं किया जाता है, इसलिए हमारी भूमि में जगह बनाने से आगे प्रदूषण पैदा होता है यदि आप अपने स्वास्थ्य की कल्पना करते हैं तो पृथ्वी और भविष्य के बारे में सोचें,  आने वाली पीढ़ियों में प्राकृतिक फाइबर को चुनने की सोच पैदा हो।

जूट को गोल्डन फाइबर कहा जाता है क्योंकि यह पैसे लाने वाली फसल है और अर्थव्यवस्था(इकॉनमी) के लिए बहुत लाभदायक हो सकता है क्योंकि इसका निर्यात (एक्सपोर्ट)अर्थव्यवस्था में बहुत सारे पैसे लाता है।

यह कॉटन के बाद दूसरा सबसे महत्वपूर्ण फाइबर है और दुनिया में इसकी मांग फिर से बढ़ रही है।

दुनिया में, खरबों डॉलर में मापी जाने वाली अर्थव्यवस्था, प्राकृतिक फाइबर उद्योगों को नीति निर्माताओं द्वारा आसानी से अनदेखा किया जा सकता है। हालांकि, प्राकृतिक फाइबर दुनिया की आबादी के 4% को रोजगार प्रदान करते हैं और बेरोजगरी के लिए एक आधार के रूप में काम करते हैं और मूल्य वर्धित रोजगार जो लाखों और लोगों को लाभान्वित करते हैं।

प्राकृतिक फाइबर उद्योग खाद्य सुरक्षा और गरीबी उन्मूलन में योगदान करते हैं। यह सबसे बड़ा खतरा है प्राकृतिक फाइबर उद्योगों की स्थिरता के लिए तेल आधारित सिंथेटिक के साथ प्रतिस्पर्धा है

आशा है Friends की आपको हमारे द्वारा “सिंथेटिक फाइबर” के बारे मे लिखा गया Blog पसंद आया होगा। यदि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी हो तो आप इसे अपने Social Media Sites पर Share ज़रूर करें l

अगर आप भविष्य में ऐसी जानकारी लेना चाहते हैं तो आप हमारे ब्लॉक को सब्सक्राइब करें और साथ के साथ आप हमारे  इंस्टाग्राम पेज और  फेसबुक पेज को लाइक करें जिससे आपको हमारे आने वाली हर पोस्ट की अपडेट समय से मिलती रहे .

Leave a Comment